Whats are the reasons of failure in our life?

हमारी जिंदगी में असफलता के क्या कारण हैं ? (What are the reasons of failure in our life?) :दोस्तों हम अपने किसी भी कार्य में असफल क्यों होते हैं। आखिर वह कौन सी चीजें हैं जो हमको असफल बनाती हैं। इस लेख में हम उन बिंदुओं पर प्रकाश डांलेंगे जो हमारी असफलता के लिए उत्तरदायी होती हैं।

यदि हमको तेज गति से कोई कार चलानी है तो सड़क का अच्छा होना बहुत जरुरी है।  यदि हम ऐसी सड़क में कार चलाएंगे जिसमे जगह जगह पर गड्ढे हों तो हम चाहे कितनी भी कोशिश कर लें, तेज गति से कार नहीं चला पाएंगे।

यदि हम अपनी गाडी को ब्रेक लगाकर चलाएंगे तो हम तेज गति से गाड़ी नहीं चला पाएंगे। यदि हम गाडी को ब्रेक के साथ तेज चलाने की कोशिश करेंगे तो उससे कुछ ही समय बाद हमारी गाड़ी का नुक्सान हो जायेगा। और हम अपनी मंज़िल पर नहीं पहुँच पाएंगे। इसलिए हमको गाडी के ब्रेक को हटाकर गाडी चलानी होगी।

हम अपनी जिंदगी में भी यही गलती कर रहे हैं। हमने अपनी जिंदगी में अनेक ब्रेक रुपी बाधाएं खड़ी कर राखी हैं। जो हमको आगे बढ़ने से रोकती हैं।

हमारी जिंदगी में असफलता के कारण

—————————————————————————————————————-

Do not be embarrassed by your failures, learn from them and start again.   –Richard Branson

अपनी असफलताओं से शर्मिंदा न हों, उनसे सीखें और फिर से शुरआत करें।

Richard-Branson-Quotes
Richard Branson Quotes

—————————————————————————————————————-

एक महात्मा जी से किसी ने पूछा कि महात्मा जी मुझे शांति नहीं मिलती। मेरा मन बहुत परेशान रहता है। कृपया मुझे शांति का मार्ग बताएं। महात्मा जी ने उस व्यक्ति से कहा की मेरे साथ चलो। महात्मा जी उस व्यक्ति को कुछ पत्थर उठाकर चलने को कहा। वह व्यक्ति वही करता गया जो महात्मा जी ने कहा। पहाड़ी पर चढ़ते समय थोड़ी दूर चलकर उस व्यक्ति को बहुत थकान महसूस होने लगी। उसने महात्मा जी से कहा की वह इतने सारे पत्थरों के साथ नहीं चल सकता। महात्मा जी ने उससे कहा की कुछ पत्थर यहीं छोड़ दो।

उस व्यक्ति ने वैसा ही किया। फिर कुछ देर बाद फिर उसे चलने में मुश्किल होने लगी। तो महात्मा जी ने कुछ पत्थर वहीँ रखवा दिए। फिर आगे चलकर आखिरी पत्थर भी रखवा दिया। अब जब वह व्यक्ति महात्मा जी के साथ पहाड़ी की छोटी पर पहुंचा तो महात्मा जी ने कहा। जिस प्रकार इन पथरों के वजन के कारण तुम पहाड़ी पर नहीं चल पा रहे हो उसी प्रकार जिंदगी में भी तुमने अनेक प्रकार के पत्थर रुपी वजन बेवजह अपने मन में बिठा रखें हैं। जब तक उनको नहीं उतारोगे तब तक तुम्हें शांति नहीं मिल सकती। जैसे ही तुम मन से उन बिना मतलब की चीजों को निकाल दोगे, वैसे ही तुम्हारे मन को भी शांति मिल जाएगी।

Whats are the reasons of failure in our life?


Victory is sweetest when you’ve known defeat. – Malcolm S. Forbes

जीत तब मीठी जाती है, जब आपने हार का स्वाद चखा हो।

 Malcolm S. Forbes-Quotes
Malcolm S. Forbes Quotes

—————————————————————————————————————-

1. सफलता के लिए खतरा उठा पाने की क्षमता न होना : 

सफलता के लिए हमको खतरे भी उठाने पड़ते हैं। खतरे उठाने का यह मतलब कदापि नहीं है की हम जुआ खेलने लग जाएं। खतरे उठाने का मतलब है पहले उस कार्य को समझना। उस कार्य के विषय में पूरी जानकारी इकठ्ठा करना और फिर सोच समझकर उस कार्य को करने के लिए जी तोड़ मेहनत करना। यदि बिना तैयारी के साथ कोई कार्य किया जायेगा तो उसके परिणाम भी अच्छे नहीं होंगे।

2. धैर्य का अभाव:

हम लोग अक्सर यही सोचते हैं कि हमने यदि आज यह कार्य शुरू किया है तो हमें अगले दिन से इसके लाभ मिलने लग जाएं। यदि कुछ दिन तक हमें लाभ नहीं मिला तो हम उस कार्य को करना छोड़ देते हैं। हम यह नहीं सोचते हैं की किसी भी कार्य को सफल बनने में समय लगता है। इसका उदाहरण इस बात से समझा जा सकता है की हम आज जिस पेड़ के फल खा रहे हैं वह पेड़ हमारे पूर्वजों ने लगाया होगा। यदि वह भी यही सोचते की आज यह पेड़ हम लगा रहे हैं तो हम कल ही इसके फल खाने लग जायेंगे तो ऐसा संभव नहीं था। सफलता रातों रात मिलने वाली चीज नहीं है यह निरंतर कठिन परिश्रम का नतीजा है।

3. निरंतरता की कमी

जैसे ही हम कोई कार्य शुरू करते हैं और कुछ समय तक तो हम मेहनत करते हैं पर कुछ समय बाद यदि नतीजे हमारे मनमुताबिक नहीं आते हैं तो हम उस कार्य से अपना मोहभंग कर लेते हैं। और किसी और कार्य को पकड़ लेते हैं।

एक खिलाडी एक ही दिन में महान नहीं बनता है। इसके लिए उसे लम्बे समय तक जमकर अभ्यास करना पड़ता है। न जाने कितनी परियां खेलनी पड़ती हैं। हर पारी से उसको एक नयी सीख मिलती है। उसको सीखकर और निरंतर मेहनत से ही वह महान बन पता है। यदि आज वह मैच में 100 रन बना रहा है। तो हमको केवल उसके 100 रन दिखाई देते हैं। हम यह नहीं देखते की यहाँ तक पहुँचने में उसको कितनी मेहनत करनी पड़ी।  यदि वही खिलाडी अभ्यास करना बंद कर दे तो वह वो सब भी भूल जायेगा जो उसको महान बनाता है। सफलता निरंतरता का ही नतीजा है।

4. तत्काल सफलता का लालच:

हम हमेशा वह रास्ता चुनते हैं जो आसान हो एवं जिससे हमें तत्काल सफलता मिले। आसान रस्ते के माध्यम से हम जल्दी ही सफल होना चाहते हैं। जिसके कारण हम अपने कार्य में मेहनत नहीं कर पाते हैं। हमें उस कार्य को करने के लिए जो जानकारी, प्रशिक्षण और तैयारी की आवश्यकता होती है, वह केवल तभी मिल सकती है जब हम अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित हों और यह समझें कि एकदम आसान रास्ता हमें सफलता की और नहीं ले जायेगा बल्कि हमें परेशानी में दाल देगा।

धन कमाने के लिए यदि हम जुए का सहारा लेंगे तो हम कहीं के नहीं रहेंगे। जल्दी अमीर बनने के लालच में हम अपना सारा धन गँवा देंगे और मानसिक और आर्थिक रूप से परेशानी में घिर जायेंगे। इसके विपरीत यदि हम उस धन का उपयोग ऐसे साधनों के लिए करें जिससे हमें आमदनी नियमित रूप से मिले तो हमारा धन तो बचेगा ही साथ में मानसिक परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।

5. असफल होने का डर:

हमें हमेशा यह डर रहता है की हम सफल होंगे या नहीं। यदि हम सफल नहीं हुए तो क्या होगा। लोग क्या कहेंगे। इस डर के कारण हम कभी पुरे मन से कार्य में मेहनत ही नहीं कर पाते। हमारा डर हमें सफलता से बहुत दूर ले जाता है। हमारे मन में हर समय यही डर अपना घर बना लेता है जिसका सीधा असर हमारे प्रदर्शन पर पड़ता है। हमें यह सोचना चाहिए कि लोग क्या कहेंगे यह मायने नहीं रखता है, बल्कि आप अपने बारे में क्या सोचते हैं यह मायने रखता है। संसार में जितने भी महान लोग हुए हैं वे अपने पहले ही प्रयास में सफल नहीं हुए हैं।

उन्होंने हर असफलता से कुछ सीखा है और हर बार अपने पिछले प्रदर्शन से बेहतर प्रदर्शन किया है। तब जाकर वो उन सब चीजों का अविष्कार कर पाए। यदि उनके मन में भी यह डर होता कि हम कहीं असफल हो गए तो क्या होगा तो फिर आज हम किस प्रकार से जी रहे होते ये आप कल्पना कर सकते हैं। एडिसन पहली बार में ही बिजली बनाने में सफल नहीं हुए थे। उनकी लगन, मेहनत, दृढ इच्छाशक्ति और अपने लक्ष्य के प्रति समर्पण के भाव ने उनको एक महान अविष्कारक बनाया।

6. लगातार कोशिश की कमी:

कुछ लोग काम शुरू तो कर देते हैं पर उसमे लगातार कोशिश नहीं करते। जिससे उनको असफलता हाथ लगती है और वो फिर उस कार्य को छोड़कर किसी दूसरे कार्य को करने लगते हैं। यही फिर आगे भी चलता रहता है। इस प्रकार वो किसी भी कार्य में लगातार कोशिश नहीं करते हैं। हम सभी जानते हैं की सफलता लगातार कोशिश करने का ही नतीजा है। कोई व्यक्ति यदि ये चाहे की 1 दिन में व्यायाम करके वह स्वस्थ हो जायेगा तो वह गलत है। हमें नियमित रूप से कुछ समय व्यायाम के लिए निकलना होगा। जिससे हमें व्यायाम से लाभ होगा। यदि हमको सुबह की सैर करनी है तो हमको रोज सुबह कुछ देर तक सैर करनी होगी, एक दिन में ही 20 किलोमीटर तक चलने तथा फिर 1 महीने तक नहीं जाने से हमको सैर करने का लाभ नहीं मिलेगा।

What are the Reasons of failure in our life?

—————————————————————————————————————-

You have to learn the rules of the game and then you have to play better than anyone else. –Albert Einstein

आपको खेल के नियम सीखने होंगे और फिर आपको किसी भी और से बेहतर खेलना होगा।

Albert-Einstein-Quotes
Albert Einstein Quotes

—————————————————————————————————————-

The reasons of failure in our life.

हम सभी खरगोश और कछुए की कहानी से परिचित हैं। खरगोश कुछ दूर तक बहुत तेज दौड़ता है। और पीछे मुड़कर देखता है तो कछुआ बहुत पीछे होता है फिर खरगोश  सोचता है की जब तक कछुआ यहाँ पहुँचता है। तब तक थोड़ा आराम कर लूँ। इस बीच खरगोश आराम ही करता रह जाता है और कछुआ रेस जीत जाता है। कछुआ निरंतर चलता है जिससे वह खरगोश को पीछे छोड़ देता है। और खरगोश कुछ दूर तक तेज चलने के बाद आराम करने लग जाता है। जिसका नतीजा उसकी हार के रूप में सामने आता है। यही बात हमारे साथ भी लागू होती है। यदि हमें सफल होना है तो लगातार मेहनत करनी होती है। सफलता निरंतरता चाहती है।

दोस्तों यह लेख (हमारी जिंदगी में असफलता के क्या कारण हैं ? “What are the reasons of failure in our life?”) आपको कैसा लगा? यदि आपको यह लेख अच्छा लगा तो आप इस लेख को शेयर कीजिये। जिससे कि सभी को इस लेख का लाभ मिल सके।

आप नीचे Comment Box में अपना कमेंट भी दे सकते हैं तथा हमें e-mailसे भी अपना सुझाव भेज सकते हैं

इस लेख को पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

सफलता के रहस्य के लिए पढ़ें : सफलता के रहस्य

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *